रोहड़ू व् उत्तराखंड क्षेत्र से किन्नौर की ओर निकला था ट्रैकिंग दल….

घायलों को उपचार के लिए पीजीआई किया गया रेफर….

चार पर्यटकों का भी ऊंचाई की वजह से दम लगा था घुटने,  हुए वापिस….

किन्नौर प्रशासन कर रही पर्यटकों के लिए हरसंभव प्रयत्न….

आदर्श हिमाचल ब्यूरो

शिमला। हिमाचल प्रदेश के शिमला जिला के रोहड़ू और उत्तराखंड क्षेत्र से ट्रैकिंग किन्नौर की ओर निकले दल के एक सदस्य की मौत हो गई, जबकि एक गंभीर रूप से घायल हो गया तथा चार पर्यटकों का कोई पता नहीं चल सका है। मृतक की पहचान रूपक कलकत्ता निवासी के रूप में हुई है। बताया जा रहा है कि ये सभी पर्यटक बंगाली है और उत्तराखंड से किन्नौर की ओर ट्रैकिंग के लिए निकले थे, लेकिन 4 सदस्यीय दल का अभी तक कोई पता नहीं चल पाया है।

अनुमान लगाया जा रहा है कि ये दल रूपिन पास में फंसे हो सकते है। वहीं दूसरी और 7 सदस्दीय दल जो रोहड़ू क्षेत्र के जांगलिक होते हुए बरुआ पास की ओर आ रहा था, उस दल के एक सदस्य की मौत हो गई है तथा घायल को एयरलिफ्ट कर सांगला चिकित्सालय में प्राथमिक उपचार के बाद चण्डीगढ के लिए रवाना किया गया।

जानकारी के अनुसार रोहडू के जांगलिक होते हुए 7 पर्यटक किन्नौर क्षेत्र में आ रहे थे लेकिन 4 पर्यटकों का ऊंचाई की वजह से दम घुटने लगा था जिस वजह से वे रोहड़ू क्षेत्र की ओर वापस हो गए थे । जब कि 3 ट्रेकर शागोदे नामक स्थान में बरुआ कंडे केम्प तक पहुंच गए । उन में से एक की मौत हो गई तथा एक घायल अवस्था में और एक सुरक्षित है। जो ट्रैकर वापिस हुए थे , उन्होंने इस घटना की सूचना रोहड़ू प्रशासन को भी दी।

रोहड़ू से संदेश तहसीलदार सांगला को दी गई । रोहड़ू से किन्नौर के साँगला तहसीलदार को इसकी सूचना मिलने पर आज साढ़े ग्यारह बजे साँगला तहसीलदार ने इंडियन एयर फोर्स के हेलीकॉप्टर व् आईटीबीपी के जवानों के रेस्क्यू टीम के साथ ब्रुआ की पहाड़ियों के लिए रवाना किया। दल का पता चलते ही घायल को तुरंत एयरलिफ्ट कर सांगला पहुंचाया गया। जबकि सांगला पुलिस रिकांगपीओ से क्यूआरटी टीम और होमगार्ड शव को ले कर वापिस हो रहे है।

हेलीकाप्टर को एक अन्य दल की खोज के लिए भेजा गया है जो उत्तराखंड से सांगला क्षेत्र के रूपिन पास में फंसे होने की सूचना है। उन्हें खोजने के लिए आटीबीपी की टीम रवाना हो गई है, जबकि वायु सेना का हेलीकाप्टर से भी खोज जारी है। डीसी किन्नौर गोपाल चंद और एसडीएम कल्पा सुरेंद्र ठाकुर ने बताया की संचार सुविधा ठीक न होने से पर्यटकों की वास्तविक संख्या कितनी है ये पता लगाना थोड़ा मुश्किल हो रहा है, लेकिन एक पर्यटक की मौत हो गई है व् एक घायल है जिसे एयरलिफ्ट किया गया है। किन्नौर प्रशासन मदद के लिए हरसम्भव प्रयास कर रही है।