Saturday, September 26, 2020
aadarshhimachal@gmail.com

आनी वैली ग्रोवर एसोसिएशन ने उतराखण्ड के बागवानों को सिखाए बागवानी के गुर

उत्तराखंड से आए 24 सदस्यीय बागवानों की टीम ने लिया एवीजीए से प्रशिक्षण

सांकेतिक फोटोसांकेतिक फोटो
Share This News
आदर्श हिमाचल ब्यूरो 
आनी। हिमाचल प्रदेश के कुल्लू जिला के आनी में परंपरागत और आधुनिक किस्मों की सेब बागवानी को सीखने उतराखण्ड से बागवान पहुंचे हैं। प्रशिक्षण में उतराखण्ड के टिहरी जिला उद्यान विभाग के चार बागवान और कलासन नर्सरी फार्म के सौजन्य से आए 20 बागवानों को आनी वैली ग्रोवर एसोसिएशन द्वारा प्रशिक्षित किया गया। कलासन नर्सरी के मालिक विक्रम सिंह रावत ने कहा कि आनी के प्रोगेसिव बागवानों के द्वारा दिया गया उनके बागवानों को प्रशिक्षण मील का पत्थर साबित होगा और उतराखण्ड की सेब बागवानी के लिए दौरा  बेहतर भविष्य की ओर ले जाएगा। उन्होंने कहा कि आनीवैली ग्रोवर एसोसिएशन के सदस्यों द्वारा बहुत ही बेहतरीन तरीके से उन्हें प्रशिक्षण दिया है जिसके आधार पर वे उतराखण्ड में बागवानी को विकसित करेंगे।
प्रशिक्षण के दौरान उतराखण्ड के बागवानों ने जहां सेब  पौध लगाने से लेकर गुणवत्ता युक्त तैयार करने की बारिकी जानकारियां हासिल की वहीं आनी वैली ग्रोवर एसोसिएशन के अध्यक्ष राकेश ठाकुर के बगीचे का दौरा कर सेब से लदे फलदार पौधों पर विभिन्न परंपरागत और विदेशी तथा उन्न्त किस्मों के बारे अहम जानकारियां जुटाई।
इस दौरान आनी वैली ग्रोवर एसोसिएशन के अध्यक्ष राकेश ठाकुर, उपाध्यक्ष महेन्द्र वर्मा, महासचिव विरेन्द्र परमार, अमर ठाकुर ने सभी 24 बागवानों को प्रशिक्षण दिया। उतराखण्ड के बागवानों और अधिकारियों की टीम में टिहरी जिला के डीएम मंगेश घिल्डियाल , डीएचओ डाॅ डीके तिवारी  ने बागवानों का ये दौरा सफल बताया। बागवानों की टीम में खुशी राम बडराल , विजय पाल नेगी शैलेंद्र सिंह, नैनसिंह, सुभाषसिंह, विनोद भट्ट, किशोर भंडारी, हरेन्द्र बिष्ट, आदि मौजूद थे।
Aadarsh Himachal