Thursday, August 13, 2020
aadarshhimachal@gmail.com

अपने लोगों पर सोशल डिस्टेंसिंग तोड़ने का मामला तक नहीं बनाती प्रदेश सरकार – कुलदीप राठौर

बोले ...... धमकियों से डरने वाली नहीं कांग्रेस, हमेशा से ही करती आई हैं शांतिपूर्ण धरना प्रदर्शन

Share This News

आदर्श हिमाचल ब्यूरो

शिमला। कांग्रेस अध्यक्ष कुलदीप सिंह राठौर ने मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर  से कहा है कि वह विपक्ष को देख लेने की धमकी न दे।उन्होंने कहा है कि ऐसी धमकियों से कांग्रेस डरने वाली नही। कांग्रेस मुख्यालय राजीव भवन में एक पत्रकार वार्ता में राठौर ने भाजपा सरकार पर कानून के दोहरे मापदंड अपनाने का आरोप लगाते हुए कहा कि सरकार अपने लोगों पर तो सोशल डिस्टेसिंग तोड़ने पर कोई मामला नही बनाती,जबकि कांग्रेस पर पुलिस मामलें बनाए जा रहें है। उन्होंने कहा कि जनहित के मामलों पर लोगों की आवाज उठाना विपक्ष का काम होता है,और इस जिम्मेदारी से वह कभी पीछे नही हट सकता।

यह भी पढ़ेंः- एसएफआई ने छात्र व देश विरोधी शिक्षा नीति के खिलाफ किया रोष प्रकट

राठौर ने कहा कि कांग्रेस हमेशा ही शांतिपूर्ण तरीके से धरना प्रदर्शन करती है।पार्टी गांधीवादी विचार धारा के साथ शांतिपूर्ण ढंग से प्रदर्शन करती है।उन्होंने कहा कि वह भाजपा की तरह कोई भी उग्र प्रदर्शन नही करती।उन्होंने कहा कि ठियोग में गुड़िया प्रकरण के चलते जिस प्रकार भाजपा ने उग्र प्रदर्शन करते हुए सचिवालय पर पथराव व पुलिस थाने को जलाया तक था।उन्होंने कहा कि उस समय कांग्रेस नेताओं पर भाजपा ने झूठे आरोप लगा कर इसका राजनीतिकरण किया था।उन्होंने कहा कि आज भाजपा इस मामले में चुप क्यों है।इसकी जांच में क्या प्रगति हुई है वह बताए।
   राठौर ने कहा कि कांग्रेस ने कभी भी कोई राजनीति नही की और न ही आज कर रही है।उन्होंने कहा कि आज कोविड 19 के चलते भाजपा 2022 के चुनावों की बात करती है।इसकी बैठकों में भी यहीं एजेंडा होता है।उन्होंने कहा कि अच्छा होता इनकी बैठक में कोविड से लड़ने की किसी नीति पर विचार होता।उन्होंने कहा कि इससे साफ है कि सत्ता की लालसा ने इन्हें अंधा बना दिया है।उन्होंने कहा कि 2022 में जब चुनाव होंगे तब देखा जायेगा पर वह आज के हालात से तो निपट ले।
राठौर ने सरकार से मांग की की वह बताए मोदी सरकार के उस बीस लाख करोड़ से हिमाचल को क्या मिला।उन्होंने यह भी पूछा कि प्रदेश में कोविड के नाम पर कितना धन इकट्ठा हुआ और यह कहा कहा किस पर खर्च हुआ।उन्होंने इस सब पर श्वेत पत्र जारी करने की मांग की है।
  उन्होंने कहा कि सरकार के भ्रष्टाचार के चलते पार्टी अध्यक्ष राजीव बिंदल को पद छोड़ना पड़ा जबकि स्वास्थ्य विभाग का जिम्मा खुद मुख्यमंत्री के पास था उन्होंने पद नही छोड़ा,जबकि उनकी भी नैतिक जिम्मेदारी बनती थी।घटिया पीपी किट की जगह रेन कोट थमा दिए गए।सचिवालय में सैनिटाइजर खरीद घोटाला हुआ उस जांच का क्या हुआ।
राठौर ने प्रदेश में बढ़ते कोरोना के मामलों पर  कहा कि प्रदेश में जिस प्रकार इसकी संख्या बढ़ती जा रही है वह वास्तव में बहुत ही चिन्ता का विषय है।प्रदेश सचिवालय भी सुरक्षित नही है।वहां कर्मचारियों की चिंता वाजिब है।उन्होंने कहा कि इस विपदा के समय बिजली, बस किरायों में की गई मूल्य बृद्वि पूरी तरह जनविरोधी है और इसे वापिस लिया जाना चाहिए।
राठौर ने नवनियुक्त भाजपा अध्यक्ष सुरेश कश्यप व कैविनेट में शामिल किये गए तीनों मंत्रियों को शुभकामनाएं देते हुए उन नेताओं से भी सहानभूति प्रकट की जो मंत्री बनने की उम्मीद में बैठे थे। राठौर ने कश्यप के उस बयान में जिसमें आज उन्होंने कोरोना के इस दौर में कांग्रेस पर राजनीति करने का आरोप लगाया पर कहा की भाजपा हमेशा ही धर्म,जाति, क्षेत्रबाद पर ही राजनीति करती आई है।उन्होंने कहा कि मजबूत विपक्ष अपना दायित्व निभा रहा है जबको भाजपा इस समय 2022 के चुनावों के ताने बाने बुनने में लगी है।उन्होंने कहा कि देश के लोगों ने भाजपा को अब सत्ता से बाहर करने का मन बना लिया है और प्रदेश में भी वह सत्ता से बाहर होगी।
loading...