लोहड़ी पर हिमाचल के लोगों की मुराद हुई पूरी…

शिमला, कुफरी, डलहौजी और चायल में भी बर्फबारी

कई स्थानों पर आफत बनी बर्फबारी, जनजीवन अस्त व्यस्त

चार एनएच समेत 290 सड़के बंद

किन्नौर और मनाली में छाया अंधेरा,10 घंटे से बिजली गुल

प्रियंका शर्मा
शिमला। हिमाचल प्रदेश में लोहड़ी पर पर्यटकों और लोगों की मुराद पूरी हो गई है। मौसम विभाग के पूर्वानुमान के मुताबिक हिमाचल के ऊंचाई वाले क्षेत्रों सहित शिमला, मनाली, डलहौजी और चायल बर्फबारी होने से उत्साह की लहर दौड़ पड़ी। इसके साथ ही कुछ स्थानों पर आफत भी बन गई। मनाली में इस मौसम की सबसे अधिक बर्फबारी हुई है जबकि रोहतांग में 90 सेंटीमीटर तक बर्फबारी रिकॉर्ड की गई जबकि कुल्लू, लाहौल, चंबा में अलर्ट कर दिया है। प्रदेश के चार नेशनल हाईवे, करीब 290 छोटी-बड़ी सड़कें बंद हैं।

कड़ाके की ठंड में प्रदेश का अपर शिमला, लाहौल स्पीति, किन्नौर और चंबा, मंडी के कई इलाके कट गए हैं। मिली जानकारी के मुताबिक शिमला-रामपुर, मनाली-केलांग-लेह, आनी-कुल्लू, चंबा-भरमौर नेशनल हाईवे बंद हो गए हैं जबकि एनएच-70 जालंधर-मंडी बाया सरकाघाट धर्मपुर कोटली पर हुक्कल के पास पहाड़ी दरकने से करीब छह घंटे तक बाधित रहा। पर्यटन नगरी मनाली में सर्दी का सबसे बड़ा हिमपात हुआ है। शनिवार रात को हुई बर्फबारी से कुल्लू और लाहौल घाटी बर्फ से सफेद हो गई है। मनाली में करीब एक फुट ताजा बर्फबारी रिकॉर्ड की गई है। जबकि सोलंगनाला और जलोड़ी दर्रा में 40-40 सेंटीमीटर, लाहौल में 15 से 20 सेंटीमीटर तक बर्फबारी होने की सूचना है। मनाली में करीब दस घंटे तक बिजली बंद रही। बर्फबारी से जिला में पानी की कई पेयजल योजनाएं ठप हैं।

इसके साथ ही किन्नौर जिले में 15 से 30 सेंटीमीटर बर्फ पड़ी है और 45 से अधिक रूट प्रभावित हुए हैं। किनौर के कई ग्रामीण इलाकों में शनिवार रात से बिजली आपूर्ति बाधित है। चंबा जिले के डलहौजी, भरमौर की ऊंची पर्वत श्रृखलाओं के इलावा पर्यटन स्थल खज्जियार, जोत, सलूणी और तीसा के ऊंचाई वाले क्षेत्रों में चार इंच से एक फुट तक हिमपात हुआ। जिला के करीब दो दर्जन मार्ग बंद हैं। उपायुक्त हरिकेश मीणा ने बताया कि संबंधित विभागों को अलर्ट रहने के निर्देश दे दिए गए हैं। जिला सिरमौर के ऊंचे इलाकों में चूड़धार सहित अनेक स्थानों पर अचानक हिमपात हुआ। इसके बाद मौसम सुहावना हो गया है।
बरोट और मुल्थान में आम जनजीवन अस्त व्यस्त
कांगड़ा की दुर्गम घाटी बरोट और मुल्थान में बर्फबारी होने से आम जीवन अस्त-व्यस्त हो गया है। देर रात को 3 से 30 सेंटीमीटर तक ताजा हिमपात घाटी में हुआ है। रविवार को भी रुक-रुक कर हिमपात होता रहा। इसके इलावा धौलाधार की ऊंचे पर्वतों पर हिमपात हुआ है।
कई स्थानों पर तापमान शून्य से नीचे पहुंच गया है। हालांकि राजधानी में बर्फबारी से पर्यटकों के चेहरे खिल गए हैं लेकिन स्थानीय जनजीवन बुरी तरह प्रभावित हुआ है। ठंड से लोग घरों के अंदर दुबके हुए हैं।

ये रहा तापमान

मौसम विभाग के अनुसार शनिवार की रात को न्यूनतम तापमान शिमला में 0.2, सुंदरनगर 5.3, भूंतर 2.6, कल्पा माइनस 4.8, धर्मशाला 2.2, ऊना 4.3, नाहन 5.5, केलंग माइनस 11.0, पालमपुर 4.0, सोलन 4.2, मनाली माइनस 1.6, कांगड़ा 7.2, मंडी 4.8, बिलासपुर 7.7, हमीरपुर 8.0, चंबा 5.3, डलहौजी माइनस 1.7 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया है। जबकि अधिकतम तापमान शिमला में 9.4, सुंदरनगर 17.3, भूंतर 14.9, कल्पा 3.5, धर्मशाला 9.6, ऊना 21.7, केलांग 3.0, मनाली 4.0, डलहौजी 0.7 और कुफरी में 4.1 डिग्री सेल्सियस रहा।

15 से फिर होगा मौसम खराब: डॉ मनमोहन सिंह

मौसम विज्ञान केंद्र के निदेशक डॉ. मनमोहन सिंह ने कहा कि अगले 12 घंटों में बर्फबारी के आसार है लेकिन 14 जनवरी को मौसम साफ रहेगा लेकिन 15 जनवरी को ताजा पश्चिमी विक्षोभ सक्रिय होने से ऊंचाई वाले क्षेत्रों में बर्फबारी और निचले इलाकों में बारिश हो सकती है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here