भारत सरकार के इलेक्ट्रॉनिक्स और सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय चला रहा है अभियान

आदर्श हिमाचल ब्यूरो 

शिमला। राजधानी शिमला के विभिन्न स्कूलों में छात्रों को इलेक्ट्रॉनिक्स कचरे के निदान के बारे में जागरूक करने के लिए इलेक्ट्रॉनिक्स और सूचना  प्रौद्योगि की  मंत्रालय  (एमईआईटी)  ई वेस्ट डिस्पोजल  और मैनेजमेंट अभियान चला रहा  है  इस अभियान के तहत अब तक शिमला के19 स्कूलों, 7 आरडब्लूए, 4 ऑफिस क्लस्टर, 2 अनौपचारिक क्षेत्र, और 1 डीलर मीट  के माध्यम से करीब 27,000 से ज्यादा छात्रों और लोगों को  ईवेस्ट डलिंग  और  डिस्पोजल  के  बारे   में  प्रशिक्षित किया गया है  (एमईआईटी) वाई के संरक्षण में आरएलजी एवं मैन्यूफैक्चरर इन्फॉर्मेशन टेक्नालजी संघएमएआईटी ने साझेदारी कर भारत में एमईआईटी वाई के इलेक्ट्रॉनिक वेस्ट के पर्यावरणीय खतरों पर जागरूकता अभियान को बढ़ावा देने के लिए क्लीन टूग्रीन कैम्पेन चलाया है। यह कैम्पेन इलेक्ट्रॉनिक वेस्ट का ज़िम्मेदारी से डिस्पोसल और मैनेजमेंट के जरिए एमईआईटी वाई के उद्देश्य को आगे बढ़ाने काप्रयास करता है। क्लीन टू ग्रीन कैम्पेन में 26 राज्यों और 4 केंद्र शासित प्रदेशों में 30 शहरों को शामिल किया जाएगा।

इलेक्ट्रॉनिक वेस्ट के पर्यावरणीय खतरों पर जागरूकता कार्यक्रम का प्राथमिक ध्यान पर्यावरण पर प्रतिकूल प्रभाव को कम करने के लिए विभिन्नस्टेक्होल्डर ;स्कूल, कॉलेज, आरडब्ल्यू, थोक उपभोक्ता, डीलर, रिफर्बिशर, अनौपचारिक क्षेत्र और निर्माताओं सहित के बीच जागरूकता पैदा करना हैजिससे ई.वेस्ट के अनुचित डिस्पोसल के कारण स्वास्थ्य एवं पर्यावरण पर पड़ रहे खराब प्रभाव को कम किया जा सके। डिजिटल इंडिया और स्वच्छ भारतमिशन के तहत यह कार्यक्रम ई.वेस्ट का ठीक तरह से डिस्पोसल और रीसाइक्लिंग को बढ़ाने का लक्ष्य रखता है जिससे पर्यावरणीय और स्वास्थ्य संबंधीखतरों को कम किया जा सके।

एमएआईटी के सीईओ अनवर शिरपुरवाला ने कहा.  भारत  में ई.वेस्ट मैनेजमेंट एक बेहद असंगठित क्षेत्र है। इस कार्यक्रम के माध्यम से एमएआईटी देश के17 राज्यों और 3 केंद्र शासित प्रदेशों में 20 शहरों तक पहुंचने और स्थायित्व सुनिश्चित करने के लिए कार्यक्रम के प्रारंभिक चरण में शामिल 10 शहरों कोशामिल करके विभिन्न स्टेक्होल्डर के बीच जागरूकता पैदा करना चाहता है।

 राधिका कालिया मैनिजिंग डायरेक्टर आरएलजी इंडिया ने कहा.  इलेक्ट्रॉनिक्स का सही डिस्पोसल और रीसाइक्लिंग एक राष्ट्रीय प्राथमिकता है औरसरकार ने ऐसी नीति शुरू की है जो इस मुद्दे की गंभीरता को प्रदर्शित करती है। क्लीन टू ग्रीन कैम्पेन में शामिल होने के बाद हम जागरूकता पैदा करनाचाहते हैं

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here