मंदिर पूरे पाहल क्षेत्र में आस्था का केंद्र : प्रकाश शर्मा

प्रियंका चौहान
शिमला। पाहल गांव में वनभूमि में बनाये गये शिवालय मंदिर को गिराये जाने के सरकारी फरमानों के विरोध में स्थानीय लोगों में खासा आक्रोश है। जन कल्याण समिति के प्रधान प्रकाश चंद शर्मा ने बताया कि इस मंदिर की जगह में सदियों से गांव वाले अपने धार्मिक व देव कार्य करते रहे हैं। यह मंदिर पूरे पाहल क्षेत्र में आस्था का केंद्र है। यहां पर एक शिव पिंडी थी उसके स्थान पर शिवालय का निर्माण 12 वर्ष पूर्व किया गया था। यह मंदिर पक्की सडक से दूर है और वर्ष भर यहां भागवत कथा, योग शिविर व अन्‍य आयोजन गांव वालों की ओर से किये जाते हैं ।
समिति के सचिव भूपेंद्र शर्मा ने बताया कि पूरे क्षेत्र में पाहल मंदिर में एक कम्यूलनिटी हाल है जिससे क्षेत्र की जरूरते पूरी होती हैं। जनकल्याण समिति के द्वारा पिछले 4 वर्षो से उपतहसील धामी में अपना पक्ष रखा गया उसके बावजूद शिवालय को गिराये जाने के आदेश दिये गये हैं । उन्होंने बताया कि मंदिर को गिराये जाने के खिलाफ जनकल्याजण समिति के द्वारा न्यायालय में याचिका दायर की गई है। भूपेंद्र शर्मा नें कहा कि इस आदेश से लोगों की धार्मिक भावनाओं को ठेस पंहुची है और इसे लेकर लोग में गुस्सा है । उन्होंने सरकार से जनहित में इस मामले को लेकर में मंदिर को गिराने के आदेश वापिस लेने की अपील की । इस मुद्दे को लेकर जनकल्याण समिति की बैठक 24 फरवरी को पाहल शिवालय में सांय 3:30 बजे रखी गयी है। इसके अलावा पाहल वार्ड के सड़क व पानी व जलभंडारण टैंक के मुद्दों पर भी चर्चा होगी ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here