करीब सौ रेहड़ी धारक मजदूर रेहड़ों से चलाते हैं अपना घर….नगर परिषद् ने की जब्त 

अभिजोत 
सोलन: नगर परिषद सोलन ने चुनाव से ठीक पहले  रेहड़ी वालों को एक बड़ा तोहफ़ा दिया है ।नगर परिषद ने इन गरीब व् लाचार रेहड़ी धारकों का अचानक सौ प्रतिशत किराया  बढ़ाया गया है जिससे इन गरीब मजदूरों के सर पर आफत के बादल मंडराने लगे है ।हिमाचल के विभिन्न जिलों व् बाहरी राज्यों से आये रेहड़ीवाले  पिछले तीस वर्षो से लोगों का सामान ढ़ोकर अपना गुजर बसर कर  रहे है उस समय शहर में गिने चुने रेहड़ा धारक होते थे जिनसे नगरपरिषद द्वारा  एक वर्ष का मात्र पचास रुपया शुल्क के रूप में लिया जाता था लेकिन धीरे -धीरे रेहड़ी धारकों की संख्या में वृद्धि होने लगी और कई रेहड़ी धारक नगरपरिषद की लापरवाही के चलते बिना शुल्क के अपने कार्यों को कई वर्षों से अंजाम दे रहे है और कई वर्ष बीत  जाने के बाद आज नगर परिषद ने इन  रेहड़ी धारक मजदूरों पर अचानक सीधा सौ  प्रतिशत शुल्क बढ़ा दिया है और इन लाचार लोगों के पास अब अपना धंधा बंद करने के सिवाय कोई रास्ता नहीं बचा है ।
मीडिया से बातचीत के दौरान लाचार रेहड़ी धारकों ने कहा की नगरपरिषद द्वारा अचानक उनका सौ प्रतिशत  बढ़ाया गया है जिसे देने में वह बिलकुल असमर्थ  है उनका कहना है कि नगर परिषद द्वारा पिछले कई वर्षों से कोई किराया नहीं वसूला है और आज अचानक उनकी रेहड़ियां उठा ली गई है उनका कहना है की इस कारोबार से वह पिछले कई  वर्षो से अपना व् अपने परिवार का गुजर बसर बड़ी मुश्किल से कर  रहे थे लेकिन अब वह भूखे मरने के कगार पर खड़े है । बाइट
वही नगर परिषद् अध्यक्ष डी के ठाकुर ने कहा की सोलन में आबादी के बढ़ने के साथ सड़को पर बेतरतीब ढंग रेहड़ीया  खड़ी  की जाती है जिसे पैदल चलने वाले लोगो को परेशानी का सामना करना पड़ता है उन्होंने कहा की किसी में रेहड़े वाले ने कोई भी रेहड़ा नगर परिषद् में पंजीकृत नहीं किया है बावजूद इसके किसी ने भी अपने रहड़ो को पंजीकृत नहीं करवाया है। उन्होंने कहा कीआम जनता की सुविधाओं को धयान में रखते हुए  नगरपरिषद इन रेहड़े वालो पर शुल्क लगाने जा रही है. बाइट नगर परिषद् अध्यक्ष डी के ठाकुर

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here