आंतकियों से लोहा लेते हुए हिमाचल का जवान शहीद..मौत से पहले फोन कर भाई को कहा था माता-पिता का रखना ख्याल

पूरे सैन्य सम्मान के साथ किया गया किन्नौर के शहीद साहिल कुमार का अंतिम संस्कार

5154
आंतकियों से लोहा लेते हुए हिमाचल का जवान हुआ शहीद
आंतकियों से लोहा लेते हुए हिमाचल का जवान हुआ शहीद

पांच भाई-बहनों में साहिल थे सबसे छोटे……परिवार वालों को रो-रोकर हुआ बुरा हाल

आदर्श हिमाचल ब्यूरो

किन्नौर। आतंकियों से लोहा लेते समय हिमाचल के और जवान ने शहादत प्राप्त कर ली। कश्मीर के गुरेनस्जपो  सेक्टर में आतंकियों के साथ मुठभेड़ के दौरान गोली लगने से किन्नौर के साहिल कुमार (24) देश पर कुर्बान हो गए। निगुलसरी के ननस्पो गांव के रहने वाले साहिल को गत बुधवार को सीमा पर गोली लगी। सेना के हेलीकाप्टर से वीरवार को उनकी पार्थिव देह को चंडीगढ़ लाया गया। रात 11:30 बजे समार्ग से उनका पार्थिव शरीर पैतृक गांव ननस्पो पहुंचा। शुक्रवार 11 बजे सैन्य सम्मान के साथ शहीद का अंतिम संस्कार किया गया।

पूरे सैन्य सम्मान के साथ किया गया किन्नौर के शहीद साहिल कुमार का अंतिम संस्कार
पूरे सैन्य सम्मान के साथ किया गया किन्नौर के शहीद साहिल कुमार का अंतिम संस्कार

देश के लिए सर्वोच्च बलिदान देने वाले इस गबरू को अंतिम विदाई देने के लिए जन सैलाब उमड़ पड़ा। अधिकारियों, सेना के जवानों और स्थानीय लोगों ने नम आंखों से उन्हें विदाई दी। जानकारी के मुताबिक बुधवार को कश्मीर के गुरेज सेक्टर में आतंकी मुठभेड़ के दौरान19 डोगरा में तैनात साहिल कुमार ने भी मोर्चा संभाला थाइसी दौरान आतंकियों की गोली उन्हें लग गई और वह शहीद हो गए। शुक्रवार को उनके अंतिम संस्कार में शामिल लोगों ने पाकिस्तान मुर्दाबाद और भारत माता की जयघोष के नारे लगाए। शहीद को सेना की अवेरी पट्टी से आई टुकड़ी ने सलामी दी। पांच भाई-बहनों में सबसे छोटे साहिल छह वर्ष पहले ही सेना में भर्ती हुए थे। अभी साहिल का विवाह भी नहीं हुआ था।

साहिल ने बुधवार को ही अपने भाई विपन और मां से बात कर घर का कुशलक्षेम पूछा था। इसके बाद सुबह 11:02 पर फिर से अपने भाई विपन से बात कर माता-पिता का ख्याल रखने को कहा था।विपन अभी भी यकीन नहीं कर पा रहा है कि साहिल अब इस दुनिया में नहीं है। वहीं साहिल की शहादत के बाद परिवार और उसके रिश्तेदारों पर भी दुखों का पहाड़ टूट गया है। साहिल के पिता भागसुख, माता सेवादासी, बहन चिंता देवी और विशेष कुमारी रो-रोकर बेहाल हैं।