गलती से भी न करें एनीडेसक नाम का ऐप डाउनलोड….हो सकता है बैंक अकांउट खाली….

आदर्श हिमाचल ब्यूरो

नई दिल्ली। नोटबंदी के बाद से देश डिजिटलाइजेशन की तरफ तेजी से आगे बढ़ा है। आज अधिकतर पैसों के लेनदेन ऑनलाइन माध्यम से ही हो रहे है। ऐसे में ऑनलाइन बैंकिंग फ्रॉड के मामले भी काफी बढ़ गए है।

एचडीएफसी बैंक ने अपने ग्राहकों को ऑनलाइन ट्रांजेक्शन को लेकर अलर्ट जारी किया है। एचडीएफसी बैंक ने ग्राहकों को कड़ी चेतावनी देते हुए कहा है कि गलती से भी अपने मोबाइल में एनीडेसक नाम का ऐप डाउनलोड न करें। अगर आप इस एप को डाउनलोड कर लेते है तो आपका बैंक अकाउंट खाली हो जाएगा।

बैंक ने बताया कि यूपीआई प्लेटफार्म पर कुछ धोखेबाजी वाले लेनदेन हुए हैं। धोखेबाज इस ऐप की मदद से विक्टिम के मोबाइल डिवाइस पर दूर से ही एक्सेस करके बैंकिंग ट्रांजैक्शन कर सकते हैं। एचडीएफसी बैंक ने ग्राहकों को ऐसे ही फ्रॉड से बचने के तरीके बताएं हैं जिन्हें ध्यान में रखकर ग्राहक किसी भी बैंक फ्रॉड से बच सकते हैं।
अगर ये एप आपके फोन में गलती से भी डाउनलोड हो गया है तो तुरंत डिलीट कर दें। पेमेंट और मोबाइल बैंकिंग का ऐप के लॉक फीचर अनेबल करके रखें। अनजान कॉलर के विज्ञापन या एसएमएस को आगे न बढ़ाएं। संदिग्ध कॉल को तुरंत काट दें। सर्च इंजन पर मिला कस्टमर सर्विस नंबर फ्रॉड हो सकताए उस पर भरोसा ना करें। किसी कॉलर या व्यक्ति से अपना बैंकिंग पासवर्ड साझा न करें और न ही उसे फोन में सेव करें।

एनीडेसक एक ऐसा सॉटवेयर है जो मोबाइल या लैपटॉप के जरिए बैंक अकाउंट से लेनदेन कर सकता है। धोखेबाज विक्टिम को एनीडेसक नाम के ऐप को प्ले स्टोर या ऐप स्टोर से डाउनलोड करने का लालच देता है।

विक्टिम के मोबाइल पर 9 डिजिट का ऐप कोड जनरेट होता है। जैसे ही धोखेबाज इस कोड को अपने डिवाइस पर इंसर्ट करता है तो धोखेबाज को विक्टिम के मोबाइल फोन का एक्सेस मिल जाता है तथा वह मोबाइल फोन से ट्रांजैक्शन कर सकता है।

ऐसा करने के बाद इस ऐप में अपने डिवाइस पर यूजर का कंट्रोल नहीं रह जाता। साइबर अपराधी इसके जरिए विश्व के किसी भी हिस्से से डिवाइस को रिमोटली एक्सेस करते हुए बैंक खाता साफ कर सकते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here