दलित शोषण मुक्ति मंच ने किया ऐलान….30 जनवरी को प्रदेश भर में होगें प्रदर्शन

प्रियंका शर्मा

शिमला। दलितों पर हो रहे हमलों और केंद्र व प्रदेश की दलित विरोधी नीतियों के खिलाफ 30 जनवरी को ‘दलित शोषण मुक्ति मंच’ विरोध प्रदर्शन करेगा। ये प्रदर्शन हिमाचल प्रदेश के सभी ब्लॉक पर होगा।
अभी हाल ही में कुल्लू जिला के बंजार में एक मेले के दौरान देवता के गुर के फूल उछालने पर जब फूल एक दलित युवक की गोद मे गिरा तो वहां उपस्थित तथाकथित उच्च जाति के लोगों ने दलित युवक पर ये कह कर हमला कर दिया कि देवता के फूल का किसी दलित के हाथों में गिरना अशुभ संकेत है। इस दलित युवक के अतिरिक्त उस मेले में उस युवक के साथियों को भी पीटा गया, ‘दलित शोषण मुक्ति मंच’ इसका कड़ा विरोध करता है और सरकार व प्रशासन से दोषियों के विरुद् कड़ी कार्यवाही की मांग करता है।
इसके पहले भी प्रदेश के विभिन्न जिलों में मध्यान भोजन में दलित शिक्षार्थियों के साथ भेदभाव व आंगनवाड़ियों में भेदभाव सामने आए है। जिस पर न तो सरकार ने और न ही प्रशासन ने कोई कड़े कदम उठाए।
गत सितंबर में सिरमौर के शिलाई क्षेत्र में अधिवक्ता व आर टी आई कार्यकर्ता केदार जिंदान की गाड़ी के नीचे कुचल कर हत्या कर दी गयी थी। हिमाचल की भाजपा सरकार के एक वरिष्ठ मंत्री ने रात रिज पर धरना पर बैठे जिंदान परिवार को 20 लाख मुआवजा, दोनों बेटियों को मुफ्त शिक्षा व मृतक जिंदान की पत्नी को सरकारी नौकरी देने की हामी भरी। परंतु आज 4 महीने बीत जाने के बाद भी कोई वायदा पूरा नही किया गया।
चौपाल के “रजत” की जातिगत द्वेष से की गई हत्या ने तो प्रदेश की भाजपा सरकार के दलित विरोधी चेहरे की नकाब ही उतार दी। मृतक रजत की माता क्षेत्र की महिला मोर्चा की नेता रही है वावजूद इसके रजत के कातिलों पर संतोषजनक कारवाही नही की गई। सरकारों द्वारा दलित उत्पीड़न पर एफ आई आर को खत्म किया जा रहा है या उसे मुश्किल किया जा रहा ताकि एफआईआर दर्ज ही न कि जा सके। सरकारी नौकरियों में बैकलॉग को खत्म किया जा रहा है। ‘एन एफ एस’ के नाम पर आरक्षण को खत्म किया जा रहा है। दलित छात्रों की छात्रवृति बंद की जा रही है।
‘दलित शोषण मुक्ति मंच’ दलित मामलों पर कार्य कर रहे सभी संगठनों व व्यक्तिगत से आह्वान करता है कि वे सभी अपनी राजनैतिक विचारधारा से ऊपर उठकर ‘दलित उत्पीड़न के खिलाफ’ और ‘दलितों के हक में नीतियों को बनाये रखने’ के लिए 30 जनवरी को ब्लॉक स्तर पर धरने में शामिल होकर इस आंदोलन को मजबूत करेंगे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here