1944 के मुम्बई अग्निकांड के शहीदों को किया गया याद 

सप्ताह भर लोगों को आग से बचने की बताई जाएंगी सावधानियां 

आदर्श हिमाचल ब्यूरो 

शिमला। 14 अप्रैल 1944 को मुंबई के विक्टोरिया बंदरगाह पर खड़े फोर्ट स्ट्रीकाईन नाम के समुद्री जहाज में भीषण आग लगी थी। जहाज में भारी मात्रा में रुई और विस्फोटक सामग्री और खाद्य पदार्थ थे। आग को बुझाने के लिए सैंकड़ों फायर ब्रिगेडकर्मी प्रयास कर रहे थे। इसी दौरान एक भीषण विस्फोट हुआ और 65 अग्निशमन जवान शहीद हो गए। उन्ही शहीदों की याद में हर वर्ष की तरह इस बार भी शिमला में रविवार से अग्निशमन जागरूकता सप्ताह का शुभारंभ किया गया। सप्ताह भर अग्निशमन विभाग अलग-अलग तरह की गतिविधियाँ कर लोगों को आग के बचाव की जानकारियां देगा।अग्निशमन सप्ताह का शुभारंभ हिमाचल प्रदेश सरकार में प्रशासनिक अधिकारी नरेश ठाकुर ने किया।
वंही स्टेशन फायर ऑफिसर शिमला धर्म चंद शर्मा ने बताया कि अग्निशमन जागरूकता सप्ताह के दौरान विभाग स्कूलों,कॉलेजों ,फैक्टरी, उद्योगों के साथ साथ सार्वजानिक जगहों पर लोगो को आग लगने से बचने की सावधानियों के बारे में जादू किया जाएगा। अग्निशमन विभाग ने इस बार कार्यक्रम की थीम ‘आग बुझाने से बेहतर उसकी सावधानी है ‘ रखी है।
गर्मियां के मौसम में प्रदेश में हर साल जंगली आग से करोड़ो की सम्पदा का नुक्सान होता है।आग लगने का एक कारण लोगों में आगजनी के समय बरती जाने वाली सावधानियों की जानकारी का अभाव भी रहता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here