व्हाट्स एप ग्रुप बना चुनावी प्रबंधन में लगी राजनीतिक पार्टियां

निर्देशों-आदेशों व अन्य कार्यों के आदान-प्पदान के लिए अधिकारी भी कर रहे व्हाट्स ग्रुप का इस्तेमाल

आदर्श हिमाचल ब्यूरो 

देहरादून। प्रदेश में होने वाले लोकसभा चुनावों में सोशल मीडिया चुनाव प्रबंधन में बेहद अहम भूमिका निभा रहा है। अब चाहे वह निर्वाचन से जुड़े अधिकारियों की बात हो या फिर चुनाव लडऩे वाली राजनीतिक पार्टियों की। हर कोई व्हाट्स एप ग्रुप बनाकर चुनावी प्रबंधन में जुटा हुआ है।

चुनावों में बीते सालों से सोशल मीडिया की भूमिका बहुत तेजी से बढ़ रही है। विशेष रूप से फेसबुक और व्हॉट्सएप दो ऐसे माध्यम बने हैं जिनका प्रयोग प्रचार-सार के लिए किया जा रहा है। दरअसल, व्हॉट्सएप ग्रुप के जरिये न केवल एक साथ कई लोगों को संदेश भेजे जा सकते हैं बल्कि वीडियो व ऑडियो भी अपलोड किया जा सकता है। जरूरत पडऩे पर इनके जरिये वीडियो कॉलिंग भी की जा सकती है। इसकी महत्ता को देखते हुए राजनीतिक दलों द्वारा इस प्रयोग प्रचार प्रसार के लिए किया जा रहा है। वहीं, चुनाव चुनाव प्रबंधन से जुड़ा प्रशासनिक तंत्र व्हाट्स एप को बेहतर और प्रभावी तरीके से इस्तेमाल कर रहा है। मौजूदा चुनावों में निर्वाचन कार्यालय इसका एक दूसरे से संवाद के लिए इसका सहारा ले रहा है। निर्वाचन आयोग द्वारा पांचों सीटों के निर्वाचन अधिकारियों से संवाद करने के लिए अलग व्हॉट्सएप गु्रप बनाया है। प्रशिक्षण में जुड़े अधिकारियों को आवश्यक दिशा निर्देश देने के लिए भी यह ग्रुप बनाए गए हैं। इसके अलावा सभी पर्यवेक्षकों के लिए अलग ग्रुप, मीडिया से समन्वय के अलग ग्रुप चुनावी तैयारियों से जुड़े लोगों के अलग ग्रुप बनाए गए हैं। वहीं पुलिस ने भी चुनावों के लिए सभी सीओ का अलग ग्रुप, चुनावों में सुरक्षा व्यवस्था की जिम्मेदारी निभाने के लिए आ रहे सीआरपीएफ के अधिकारियों के साथ अलग ग्रुप, यहां तक कि प्रदेश की सीमाओं से लगे दूसरे राज्यों के थानों में तैनात अधिकारियों के साथ ही अलग व्हॉट्सएप ग्रुप बनाए गए हैं। पुलिस महानिरीक्षक कानून व्यवस्था दीपम सेठ ने भी सोशल मीडिया के बढ़ते प्रयोग की बात को स्वीकार किया है। उन्होंने कहा कि आपस में त्वरित और तेज समन्वय के लिए चुनाव प्रबंधन में लगे लोगों के साथ व्हाट्स एप ग्रुप बनाए गए हैं। इनके माध्यम से आपस में बेहतर और त्वरित समन्वय स्थापित किया जा रहा है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here