प्रदेश ने कहां किया कितना विकास ……साथ ही प्रति व्यक्ति आय कितनी बढ़ी यह भी पढ़े……

आदर्श हिमाचल ब्यूरो

शिमला। मुख्यमन्त्री जयराम ठाकुर ने आज विधानसभा में वर्ष 2018-19 का आर्थिक सर्वेक्षण प्रस्तुत किया। जिसमें वर्तमान सरकार द्वारा किये गए विकास का ब्योरा तैयार किया गया है। भारत सरकार ने इस वर्ष में केवल एक राट्रीय टीकाकरण दिवस 3 फरवरी को बाइवेलेन्ट ओरल पोलियो वैक्सीन के साथ निर्धारित किया है तथा ग्रामीण स्वास्थ्य अभियान के अन्तर्गत् 95 स्वास्थ्य संस्थानों द्वारा 24 घंटे आपातकालीन सेवाएं प्रदान की गई है।

सामाजिक सुरक्षा योजना के अन्तर्गत् 60 वर्ष से ऊपर व 70 वर्ष से कम व्यक्तियों के लिए जिनकी वार्षिक आय 35,000 से कम है को 750 प्रतिमाह की दर से पैंशन प्रदान की जा रही है तथा 70 वर्ष से ऊपर के व्यक्तियों को 1,300 प्रतिमाह की दर से पैंशन बिना किसी आय मापदण्ड के दी जा रही है।मुख्य मन्त्री कन्यादान योजना के अन्तर्गत बेसहारा लड़कियों के अभिभावकों को 40,000 विवाह अनुदान दिया जा रहा है तथा 1,111 लाभार्थियों को इसका लाभ पहुंचाया गया है। बेटी है अनमोल योजना के अन्तर्गत् 16,000 बालिकाओं को लाभान्वित किया गया है।

बालिकाओं, किशोरियों के खिलाफ हो रहे अपराधों से सुरक्षा के लिए हिमाचल प्रदेश सरकार द्वारा सक्षम गुड़िया बोर्ड का गठन किया गया है। राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका अभियान के अंतर्गत् 5,400 महिला स्वयं सहायता समूहों को सहायता उपलब्ध करवाई जाएगी। मातृ शक्ति बीमा योजना के अधीन 134.00 लाख की वित्तीय सहायता 91 परिवारों को प्रदान की गई है। महात्मा गॉधी राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी योजना के अन्तर्गत 205.35 लाख कार्य दिवस सृजित किए गए एवं 4,79,004 परिवारों को रोजगार प्रदान किया गया। लाल बहादुर शास्त्री कामगार एवं शहरी आजिविका योजना के अर्न्तगत् 1,50 करोड़ आवंटित किए गए।

राष्ट्रीय शहरी आजीविका अभियान के अन्तर्गत 240 स्वंय सहायता समूह बनाए गये व 739 लाभार्थियों को विभिन्न व्यवसायों में प्रशिक्षण दिया गया। 2018 की अनुमानित जनसंख्या के अनुसार आधार योजना के अर्न्तगत 73,15 लाख से अधिक निवासियों के आधार कार्ड बनाए गए है। महिलाओं की सुरक्षा के लिए तथा महिलाओं के प्रति हिंसक घटनाओं पर अंकुा लगाने हेतु शक्ति बटन ऐप शुरू किया गया। सामाजिक सुरक्षा पेंशन के तहत बिना किसी आय सीमा के वृद्धावस्था पेंशन प्राप्ति की आयु सीमा 80 से घटाकर 70 र्वा की गई।

हिमाचल गृहिणी सुविधा योजना के अंतर्गत प्रदेश में नवम्बर, 2018 तक 32,134 नये रसोई गैस कनैकन दिए गए हैं। केन्द्र की उज्ज्वला योजना के अंतर्गत् प्रदेा में 85,421 रसोई गैस कनैकन दिए गए। आयुमान भारत अथवा अन्य चिकित्सा प्रतिपूर्ति योजना में न आने वाले परिवारों के लिए हिमकेयर योजना आरम्भ की गई। इस योजना के अन्तर्गत एक परिवार को अस्पताल में भर्ती होने पर 5 लाख तक के निशुल्क इलाज का प्रावधान है। नागरिकों को विभिन्न स्वास्थ्य टैस्ट की सुविधा प्रदान करने के लिए मुख्य मंत्री निरोग योजना आरम्भ की। इस योंजना के अन्तर्गत् प्रदेश में 130 वेलनेस केन्द्र स्थापित किए जाएंगे।

राज्य में प्राकृतिक खेती को बढ़ावा देने के लिए 25 करोड़ रुपये के बजट प्रावधान से प्राकृतिक खेती खुाहाल किसान योजना आरम्भ की गई। नव युवकों को अपना कारोबार करने के लिए मुख्यमंत्री स्वावलम्बन योजना आरम्भ की गई। मुख्यमंत्री स्टार्ट-अप योजना के तहत प्रदेा के 8 इंक्यूबेान सेंटर में 27 स्टार्ट अप आरम्भ किए गए और 3 होनहार उद्यमियों को पुरस्कार प्रदान किए गए। 2018-19 के दौरान प्रदश्ेा में 2 क्षेत्रीय आयुर्वेदिक चिकित्सालयों, 31 चिकित्सालयों, तथा 1,178 आयुर्वेदिक स्वास्थ्य केन्द्रो, 3 युनानी स्वास्थ्य केन्द्र तथा 14 होम्योपैथिक स्वास्थ्य केन्द्रों द्वारा आयुर्वेदिक उपचार की सुविधा प्रदान की जा रहीं हैं। अनुसूचित जातिए अनुसूचित जनजाति, अन्य पिछड़ा वर्ग तथा बीण्पीण्एलण् के परिवारो के विद्यार्थियों को प्रदेश सरकार निशुल्क पाठय पुस्तकें उपलब्ध करवा रही है। प्रदेश में विवविद्यालय स्तर तक लड़कियों को मुफत शिक्षा प्रदान की जा रही है जिसमें व्यावसायिक तथा पेोवर पाठ्यक्रम भी सम्मिलित हैं। इस प्रलेख को अर्थ एवम सांख्यिकी विभाग ने तैयार किया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here