Wednesday, December 2, 2020
aadarshhimachal@gmail.com

कोरोना अपडेट: हिमाचल में एक दिन में रिकॉर्डतोड़ 915 मामले, 24 घंटे में 18 लोगों की मौत ने बढ़ाई चिंता

प्रदेश लोक सेवा आयोग के सचिव आशुतोष गर्ग भी संक्रमित, हुए होम आइसोलेट

कोरोना से मरने वालों की जानकारीकोरोना से मरने वालों की जानकारी
Share This News

आदर्श हिमाचल ब्यूरो

शिमला। हिमाचल प्रदेश में शनिवार को रिकॉर्ड 18 कोरोना संक्रमितों की मौत हो गई है। साथ ही एक दिन में रिकॉर्ड 915 मामले भी सामने आए हैं। ये हिमाचल के लिए गंभीर चिंता का विषय है। अगर इसी दर से कोरोना वायरस की रफ्तार बढ़ती रही तो ये सभी के लिए चिंता का विषय है।

आईजीएमसी कॉलेज में दाखिल आठ मरीजों की कोरोना से मौत हुई है। वहीं प्रदेश लोक सेवा आयोग के सचिव आशुतोष गर्ग की कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। आयोग में 6 कर्मचारियों के पॉजिटिव पाए जाने पर सचिव ने भी अपनी जांच करवाई थी। शनिवार दोपहर बाद सचिव की रिपोर्ट पॉजिटिव निकली। इसके बाद वह होम आइसोलेट हो गए हैं। ऊना जिले के गांव समूर कलां निवासी 26 वर्षीय विवाहिता की कोरोना से टांडा मेडिकल कॉलेज में मौत हो गई।

विवाहिता शुक्रवार को पॉजिटिव पाई गई थी, शनिवार को तबीयत बिगड़ने पर टांडा मेडिकल कॉलेज के लिए रेफर किया गया था, जहां उसकी मौत हो गई। सोलन जिले में कुमारहट्टी निवासी 71 वर्षीय बुजुर्ग की एमएमयू अस्पताल में मौत हो गई। मरीज को सांस लेने में दिक्कत थी। इसके अलावा नालागढ़ के मित्तियाँ निवासी 27 वर्षीय युवक ने कोरोना से पीजीआई में दम तोड़ दिया। कुल्लू उपमंडल की 68 वर्षीय बुजुर्ग महिला और आनी के 85 वर्षीय बुजुर्ग की कोरोना से मौत हो गई। कांगड़ा में दो महिलाओं की कोरोना से मौत हो गई है। जिला हमीरपुर की 78 वर्षीय महिला ने टांडा अस्पताल में कोरोना के कारण दम तोड़ दिया। धर्मशाला के दाड़नू की 50 वर्षीय महिला की धर्मशाला अस्पताल में कोरोना के कारण मौत हो गई।

चंबा जिले में कोरोना संक्रमण से एक साथ तीन मरीजों की मौत हो गई है। अचानक एक साथ तीन मरीजों की मौत से स्वास्थ्य विभाग अलर्ट हो गया है। मरने वाले तीन मरीजों में दो पुरुष और एक महिला शामिल है। एक मरीज ने टांडा, एक ने चंबा और एक मरीज ने होम आइसोलेशन के दौरान दम तोड़ा है। जानकारी अनुसार भलेई की रहने वाली 80 वर्षीय महिला 17 नवंबर को कोरोना संक्रमित पाई गई थी। उसे उपचार के लिए डीसीएच चंबा में भर्ती किया गया था। 18 नवंबर को महिला की हालत को देखते हुए उसे टांडा अस्पताल रेफर कर दिया गया। महिला कोरोना संक्रमण के साथ निमोनिया और किडनी की बीमारी से भी ग्रसित थी। शनिवार सुबह महिला ने टांडा में दम तोड़ दिया। दूसरे मामले में बाथरी के सुदाई गांव के रहने वाला 47 वर्षीय व्यक्ति को 18 नवंबर को डीसीएचसी डलहौजी में भर्ती किया गया था। कोरोना संक्रमण के साथ व्यक्ति को बीपी और शुगर की बीमारी थी।

यह भी पढ़ें: https://www.aadarshhimachal.com/government-deliberately-not-doing-panchayat-roster-to-impress-congress-candidates-kehar-singh-khachi/

मरीज का ऑक्सीजन लेवल ठीक नहीं हो रहा था। इसके चलते मरीज को डीसीएचसी चंबा भेज दिया गया। लेकिन यहां पर शनिवार सुबह मरीज ने आखिरी सांस ली। तीसरे मामले में राजपुरा के धार गांव के 77 वर्षीय व्यक्ति ने होम आइसोलेशन के दौरान घर पर ही दम तोड़ दिया है। 18 नवंबर को व्यक्ति का सैंपल एकत्रित करके जांच को पीसीआर लैब में भेजा गया था। इसी दिन देर रात

नेरचौक मेडिकल कॉलेज में शनिवार को तीन महिलाओं की मौत हुई है जिसमें दो की रिपोर्ट कोरोना पॉजिटिव है जबकि एक की रिपोर्ट का इंतजार किया जा रहा है। दो मंडी जिले से संबंधित हैं जबकि तीसरी 39 वर्षीय महिला कुल्लू के शास्त्री नगर की है जिसे नेरचौक लाया गया था लेकिन वार्ड में भर्ती करने से पहले ही उसकी मौत हो गई।

दो अन्य महिलाएं करसोग व सुंदरनगर की रहने वाली हैं। जिसमें करसोग के बदार बखरोट की 48 वर्षीय महिला को यहां पॉजिटिव आने के बाद शुक्रवार को ही भर्ती किया गया था लेकिन देर रात उसने भी दम तोड़ दिया। इसके अलावा सुंदरनगर के धोधवां भोजपुर निवासी 74 वर्षीय बुजुर्ग महिला की भी सारी वार्ड में मौत हुई है लेकिन इसका आरटीपीसीआर टेस्ट मौत के बाद लिया है जिसकी रिपोर्ट आना बाकी है।

बताया जा रहा है कि इन्हें भी देर रात दो बजे यहां लाया गया था और थोड़ी देर में मौत हो गई। वरिष्ठ चिकित्सा अधीक्षक डॉ जीवानंद चौहान ने तीन मौत की पुष्टि की है। उन्होंने कहा कि तीन में से दो की रिपोर्ट पॉजिटिव है और तीसरी महिला की रिपोर्ट आना बाकी है।

शिमला के इंदिरा गांधी मेडिकल कॉलेज एवं अस्पताल (आईजीएमसी) में शनिवार को कोरोना पीड़ित आठ मरीजों की मौत हो गई। इसमें से छह लोग शिमला जिले से हैं। एक मरीज मंडी से यहां इलाज करवाने के लिए लाया गया। आईजीएमसी अब तक का एक दिन में मरने वालों यह सर्वाधिक आंकड़ा है।

आईजीएमसी में दम तोड़ने वालों में संजौली का रहने वाला एक 92 वर्षीय मरीज भी था। इन्हें 17 नवंबर को दाखिल किया गया था। कोविड टेस्ट किया तो वह पॉजिटिव निकला। मरीज हाइपरटेंशन से भी ग्रसित था। शनिवार सुबह इनकी मौत हो गई। छोटा शिमला के 82 वर्षीय मरीज तो 19 नवंबर को कोरोना संदिग्ध वार्ड में दाखिल किया था। 20 नवंबर को कोविड रिपोर्ट पॉजिटिव आई। इन्हें भी हाइपरटेंशन समेत अन्य बीमारियां थीं। कोटगढ़ के 43 साल के मरीज को डीडीयू से बीते दिन रेफर किया था। यह निमोनिया से भी ग्रसित था। मरीज को सीपीआर भी दिया गया लेकिन देर शाम मरीज की मौत हो गई।

बारला रोहड़ू के रहने वाले 51 साल के मरीज को 20 नवंबर की दोपहर डीडीयू से रेफर किया था। मरीज को कोविड निमोनिया भी था। देर शाम इनकी मौत हो गई। मरीज को हाइपरटेंशन के अलावा शूगर भी थी। वहीं कुमारसेन के 65 साल के मरीज को भी डीडीयू से रेफेर किया था। लेकिन देररात इनकी भी मौत हो गई।

मंडी के ठूंसग गांव की 55 साल की महिला को तीस अक्तूबर को सर्जरी विभाग में दाखिल किया था। 20 नवंबर को कोविड टेस्ट पॉजिटिव आया। महिला को आइसोलेशन वार्ड शिफ्ट किया जहां शनिवार को इनकी मौत हो गई। शिमला के सांगटी की महिला और आनी के एक व्यक्ति ने भी इंदिरा गांधी मेडिकल कॉलेज में तोड़ दिया। लाहौल-स्पीति के एक व्यक्ति की भी कोरोना से मौत हुई है। शनिवार को प्रदेशभर में 745 कोरोना पॉजिटिव मामले आए हैं। मंडी 144, शिमला 133, कुल्लू 104, कांगड़ा 84, चंबा 52, सिरमौर 20, हमीरपुर 66,  किन्नौर 4, सोलन 63, लाहौल-स्पीति में 11, बिलासपुर 22, ऊना जिले में 42 कोरोना पॉजिटिव मामले आए हैं।

loading...