बोले…राहुल गांधी देश ही नहीं बल्कि विदेशी संस्थानों को भी गुमराह करने वाला व्यक्ति 

अतिउत्साह में झूठ बोलने और भ्रम फैलाने का राहुल गांधी का लम्बा ट्रैक रिकार्ड

आदर्श हिमाचल ब्यूरो 
हमीरपुर। सांसद अनुराग ठाकुर ने कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी की शैक्षणिक योग्यता में ब्रिटेन की कैम्ब्रिज यूनिवर्सिटी द्वारा फ़र्ज़ी नाम से एम॰ फ़िल डिग्री हासिल करने की घटना उजागर होने पर इसे राहुल गांधी को देश ही नहीं बल्कि विदेशी संस्थानों को गुमराह करने वाला व्यक्ति बताया है।
अनुराग ठाकुर ने कहा”कांग्रेस पार्टी झूठ की ठेकेदार है जिसमें इनके केंद्रीय नेतृत्व से लेकर स्थानीय नेता शामिल हैं।राहुल गांधी ने समय समय पर देश की जनता और संस्थानों को ग़लत तथ्यों, झूठे दावों और फ़र्ज़ी आँकड़ों के ज़रिए गुमराह करने का प्रयास किया है। देश तो देश अब विदेशों में भी इनके द्वारा किए गए फ़र्ज़ीवाड़े सामने आ रहे हैं। राहुल ने अमेठी में नामांकन के दौरान जो हलफनामा भरा, उसके मुताबिक वह ब्रिटेन की कैंब्रिज यूनिवर्सिटी के ट्रिनिटी कॉलेज से एमफिल पास हैं। साल 1995 में उन्होंने यह डिग्री डेवलपमेंट इकनॉमिक्स में हासिल की थी, पर विवि का सर्टिफिकेट बताता है कि न सिर्फ उसमें लिखी तारीखें गलत हैं, बल्कि जो कोर्स उन्होंने लिया उसका भी नाम सहीं नहीं लिखा था।राहुल गांधी ने कैंब्रिज यूनिवर्सिटी रॉल विंसी नाम से कराया गया था और यूनिवर्सिटी के मुताबिक, उन्होंने 2004-2005 में एमफिल की पढ़ाई की,जबकि उनके हलफनामे में 1994-95 लिखा था”
आगे बोलते हुए  अनुराग ठाकुर ने कहा” अतिउत्साह में झूठ बोलने और भ्रम फैलाने का राहुल गांधी का लम्बा ट्रैक रिकार्ड है।हाल ही राफ़ेल पर सुप्रीम कोर्ट की टिप्पणी को कोर्ट का फ़ैसला बताते हुए बिना रिपोर्ट को पढ़े और तथ्यों को जाने बिना ही इन्होंने झूठ पर आधारित कैंपेंन शुरू कर दिया जिसके ख़िलाफ़ हमारी पार्टी ने सुप्रीम कोर्ट के अवमानना की याचिका दायर कर दी है।देश की संवैधानिक संस्थाओं और गणमान्यों पर अपनी सहूलियत के हिसाब से मिथ्या आरोप लगाने में राहुल गांधी एक सेकेंड भी समय नहीं लगाते।संसद में राफ़ेल पर ऑडियो टेप की प्रमाणिकता सिद्ध करने पर ये कैसे पीछे हटे थे इसका गवाह पूरा देश है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here