बेलगाम होती हमीरपुर भाजयुमो

आदर्श हिमाचल ब्यूरो

हमीरपुर। लोकसभा चुनावी डंका बज चुका है। लेकिन इसी बीच पार्टी के भीतर की उथल पुथल अब धीरे धीरे बाहर आना शुरू हो गई है। बुधवार रात को करीब दस बजे भाजयुमो के मंडल अध्यक्ष ने फेसबुक पर एक पोस्ट डालते हुए इस्तीफे की पेशकश कर दी। पोस्ट में लिखा कि “मैं पंकज मिन्हास युवा मोर्चा मंडल अध्यक्ष के पद से इस्तीफा देता हूं। मैं निजी कारणों से इस्तीफा दिया है। अब मैं युवा मोर्चा का कार्यकर्ता नहीं रहा।जैसे ही ये पोस्ट डाली हमीरपुर भाजयुमो के भीतर खलबली मच गई। कुछ लोगो ने फेसबुक पर इस्तीफे की वजह भी पूछी तो पंकज ठाकुर ने उस कमेंट का जवाब दिया कि “अनुराग से पूछो” ऐसे में सांसद के नाम का जिक्र करने से मामला ओर बढ़ गया। कई भाजयुमो नेता पंकज को फोन करते रहे। लेकिन पोस्ट देर रात तक नहीं हटी। कुछ मिनट में स्क्रीन शॉट कई वट्सएप ग्रुप में वायरल होने लगा। सुबह पंकज ठाकुर की आईडी से एक पोस्ट अपडेट हुई। इसमे लिखा था कि रात को मेरी आईडी हैक हो गई थी। गलत पोस्ट डाली गई थी कि मैं भाजपा छोड़ रहा हु। मैं बताना चाहता हु कि मैं भाजपा का सच्चा सिपाही हूँ। और तन मन धन से भाजपा की सेवा करूँगा अनुराग चौथी बार ”


लेकिन इस पूरे प्रकरण के बाद हमीरपुर की राजनीति में कई सवाल खड़े हो रहे है। कुछ दिन पहले पंकज ने सांसद अनुराग ने जिस गांव अनु को गोद लिया है।उसके ऊपर टिप्पणी करते हुए पोस्ट डाली थी जिसमे लिखा था कि कल मैं सांसद आदर्श ग्राम अनु वार्ड नंबर दो के रास्ते का हाल बताऊंगा” इस पोस्ट से काफी बवाल हुआ था। तब भी नेताओं ने इस मामले को शांत करवाया। पंकज ने रास्ते का हाल बताने वाली अगली पोस्ट डाली ही नहीं ।

इससे पहले शिमला की एक नेत्री की आईडी पर कमेंट करने से विवाद उठ गया था जब मामला मीडिया में आया तो आला नेताओ ने खुद इस पूरे प्रकरण को ठंडे बस्ते में डलवा दिया। लेकिन अब फिर से इस तरह की पोस्ट से भाजपा की  चूलें हिलती नजर आ रही हैं क्या भाजपा और उसके अग्रणी संगठनों में आंतरिक विरोध इतना व्यापक हो गया है कि इस्तीफो कितने पेशकश आम बात हो गई है। अगर भाजपा इस तरह के मामलों को छोटा मान कर इग्नोर करती रही तो एक दिन भाजपा की छवि व्यापक स्तर पर खराब हो सकती है

बेलगाम होती भाजयुमो

हमीरपुर भाजयुमो बेलगाम होती नजर आ रही है। पिछले तीन महीनों के भीतर इस तरह के तीन विवाद हो चुके है। पहले एक युवा नेता ने इस्तीफा दिया था। उसके बाद युवा नेत्री ने इस्तीफा दे दिया।। अब मंडल अध्यक्ष के इस्तीफे से जुड़ी पेशकश । क्या भाजयुमो पर नकेल कसने में नाकाम साबित हो रहा है या फिर सुनियोजित तरीके से हलचल मचाने के लिए इस तरह के इस्तीफे दिए जा रहे है। संगठन के मामले में भाजपा सबसे मजबूत मानी जाती है लेकिन जिस तरह की विवाद अब भाजपा और उसके अग्रणी संगठनों में आने लगे है उससे गैर संगठनात्मक लोगों के होने का आभास हो रहा है ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here