पदभार ग्रहण करने से पहले करेंगे बड़ी रैली…पार्टी के सभी वरिष्ठ नेता रहेंगे मौजूद

देविंद्र सिंह
शिमला। नई चुनौतियों और कांटों भरे ताज के साथ कुलदीप सिंह राठौर की लोकसभा चुनावों से ठीक की गई ताजपोशी ने कांग्रेस में अप्रत्यक्ष तौर पर एक नई ऊर्जा का संचार किया है। राठौर ने भी अपने ऊपर आई इस बड़ी जिम्मेदारी को सकुशल निभाने के लिए पहल कर दी है। किसी विवाद या गुटबाजी को विराम देने के लिए उन्होंने सबसे पहले पार्टी के वरिष्ठ नेताओं के साथ खुद का तालमेल स्थापित करने का बेहतरीन प्रयास किया है। यही नहीं पहले ही दिन से उन्होंने कार्यकर्ताओं का साथ भी खुद का सांमजस्य बिठाने की कवायद शुरू की है।

इसी कवायद में कांग्रेस प्रदेशाध्यक्ष ने पदभार ग्रहण करने के पुराने कार्यक्रमों की तर्ज छोड़कर एक नई रिवायत कायम करते हुए पदभार ग्रहण करने से पहले ही एक रैली का आयोजन कर डाला है। अपने सामेन आने वाली नई-पुरानी चुनौतियों से निपटने के लिए राठौर ने इस रैली में पार्टी के सभी वरिष्ठ नेताओं को भी साथ लिया है। साथ ही यहां बड़ी संख्या में कार्यकर्ताओं के पंहुचने की भी उम्मीद है।

कुल मिलाकर कांटों भरा ताज पहनने से पहले कुलदीप सिंह राठौर अपने संगटन के 40 साल के अनुभव से सीखते हुए एक नई और काफी महत्वपूर्ण पारी की शुरूआत सभी के साथ के साथ करने जा रहे हैं।

राठौर एक एसा व्यक्तित्व है जिसने वर्ष 2012 में कांग्रेस की सरकार बनने से पहले पूरी भाजपा से अकेले शिमला कार्यालय से टक्कर ले रखी थी। उनकी सादगी और सभी से मिलनसार व्यक्तिव के कारण उनकी आधी उलझने को खुद ही सुलझ जाएंगी क्योंकि अभी तक के राठौर के रूख से साफ है कि उन्होंने सभी से सभी तरह के समभेद भुला इस नई पारी को सफलतापूर्वक खेलने का मन बना लिया है। अब इसमें उन्हें कितने लोगों का साथ और कितने लोगों से चुनौती मिलेगी, ये तो आने वला वक्त ही बताएगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here