50 किसानों को सिखाये गए मधुमक्खी पालन के गुर
कृषि विज्ञान केंद्र रोहड़ू ने आयोजित किया था शिविर
आदर्श हिमाचल ब्यूरो
शिमला। भूमिहीन व छोटे किसानो के लिये मधुमक्खी एक सही विकलप के लिय कृषि विज्ञान केंद्र रोहड़ू में मुख्यमंत्री मधु विकास योजना के तहत पांच दिवसीय प्रशिक्षण शिविर का आयोजन बागवानी विभाग रोहड़ू व चिड़गांव द्वारा 50 किसानों के लिए किया गया जो 14 फरवरी को आरम्भ हुआ जिसकी शुरुआत नरेंदर सिंह काइयथ प्रभारी के वी के रोहरू ने की। उन्होने कहा मधुमखि पाल्ंन एक एसा व्यवसाय हे जिसे कम लागात मे भूमिहीन किसान व युवा भी शुरु कर सकते हे इस रोजगार से दोहरा लाभ हे एक मौन पालक उत्पाद बेच कर पैसा कमाता हैै साथ ही साथ मधुमक्खियों द्वारा सेब फूलों पर भ्रमण करने से फसलों

में स्वत ही परागण हो जाता है जिससे सेब फल की पैदावार बढ़ाई जा सकती है व एक मौन वंश किराय पर 1000 रुपय मे दे कर भी पेसे कमाए जाते हे मौन पालन्ं कि विशेषताएँ- 1 मधुमक्खि पालन्ं व्यवसाय अपनाने के लिय कम समय कम लागत कि जरुरत होती हे 2 मधुमखि पालन का पर्यावरण पर सकारत्मक प्रभाव हे 3 मधुमखिपालन के लिय प्रशिक्षण के लिय ज्यादा पडे लिखे होने कि आव्शक्ता नही होती हे 4 मुख्य्ं मंत्री मधू विकास योजना के तहत 50 मौन वंश पर 160000 रुपय का अनुदान व अन्य समान खर्दी पर 16000 रुपय का अनुदान तथा बी फ्लोरा लगाने के लिय 3500 रुपय का अनुदान दिया जा राह हे पांच दिवस्या प्रशिक्षण मे ड़ा तनुजा ने मधुमखि पर किट हमले कि जानकारी व रोक्थाम के उपाय कि जानकारी दि , ड़ा नीलम ने मधुमक्खियों मे लगने वाली बिमारियो कि जानकारी व रोक्थाम बारे बताया ड़ा बंधना ने विभिन बी फ्लोरा व सेब फसल मे मधुमखि के सेहबागिता कि जानकारी मुहिया करवाई ड़ा इबा ने मृधा परीक्षण के बारे मिटि प्रयोगशाला मे जानकारी दि ड़ा दलीप सिंह नर्गेटा उध्यान विकास अधिकारी कोट्खाई ने मधुमखि पालन व उपदान हेतू जरूरी दस्तावेज जेसे एप्लीकेशन फॉर्म जमिन का परचा बेंक खाता नम्बर व मौन वश व अन्य सामग्री सरकारी या पंजीकृत मौन पालक से ले कि जानकारी प्रधान कि और भारतीय मखी जो तिरो मे कई वर्षो से लगाई जा रही हे उसको बड़ावा देने हेतू किसानो से अपील कि डा कुशाल मेहता उध्यान विकास अधिकारी रोहरू ने काह कि पांच दिनो मे 50 बागवानो ने मधुमक्खि पालन कि जानकारिया बखुबी ली और किसानो ने मौन पालन हेतू रुचि ली व सबी किसानो से अपील कि सेब पौध मे फुल के दोरान मौन वंश जरुर लगाये व फुल के दोरान किटनाशाक का प्रयोग ना करे मधुमखि होगी तबी सेब फसल होगी किसानो मे श्री सूरज चौहान जो पहले से ही सफल मौन पालन्ं कर राह हे ने अन्य किसानो कॉ इस व्यवसाय करने के लिय प्रोत्साहित किय अन्य किसान श्री राज्पाल फौजी, सलम सिंह, अभिषेक मछान्ं, हितेंद्र मेहता,हेमंत सुमन,जनक राज, सुनील मेहता,अमृत सिंह, विकास रानटा, योगेश्वर बंश्टु, परबत बंश्टु,अनिल रान्जा , अनिल जोक्ता,अमीत, पंकज, विजय ठाकुर , रविन्दर चौहान, दिनेश कुमार , दिपक चौहान, संजीव, नीम चंद, अनिल शर्मा,ललित मेहता, देव राज, कुलदीप ठाकुर, अशोक शर्मा, सुबाश , देव्द्वीज, बेली राम , पुनीत ठाकुर, धुनि चंद , कृशन सिंह, नरिंदेर पाल, अतुल शर्मा, जितेन्दर कुमार, त्रिलोक ठाकुर,मनमोहन, अविनाश , मनोज कुमार , सैन राम चौहान , विद्या सागार, विनोद दत्ता, पंकज शर्मा , संजय, सचिन दान्टा,देस राज , दिनेश कुमार , नवींंन ने भाग लिय

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here