शिक्षा मंत्री पर अमर्यादित टिप्पणी के लिए कांग्रेस विधायक की निंदा की…,पूछा कौन से देश के राजा है वीरभद्र सिंह 

 

आदर्श हिमाचल  ब्यूरो 

 

 शिमला:- भाजपा मंडल अध्यक्ष प्रताप तोमर, महासचिव जगत सिंह व दिनेश चौहान, भाजयुमो ब्लॉक अध्यक्ष विजेंद्र शर्मा, कानून प्रकोष्ठ संयोजक कपिल भारद्वाज, जिला भाजपा उपाध्यक्ष धर्मपाल सूर्या तथा मीडिया सहप्रभारी प्रताप रावत आदि ने स्थानीय कांग्रेसी विधायक द्वारा शिक्षा मंत्री पर की गई अमर्यादित टिप्पणी पर कड़ी आपत्ति जताई।

यहां जारी बयान में भाजपाइयों ने कहा कि, प्रदेश में सत्ता परिवर्तन के बाद क्षेत्र के कांग्रेसी आपा खो चुके हैं तथा बार-बार अलोकतांत्रिक टिप्पणियां कर ओछी राजनीति कर रहे हैं। भाजपा रेणुकाजी मंडल व जिला कमेटी पदाधिकारियों ने यहां जारी बयान में कहा कि, बुधवार को कांग्रेस विधायक विनय कुमार ने न केवल संगड़ाह हैलिपैड पर बिना प्रशासन की अनुमति के मंडल इकाई की जनसभा करवाकर कानून की अवहेलना की, बल्कि हिमाचल के शिक्षा मंत्री का अपमान कर क्षेत्र में अपनी तानाशाही व दबंगई दिखाने की कोशिश भी की।

कांग्रेस विधायक विनय कुमार द्वारा बार-बार शिक्षा मंत्री के लिए तू व उसके जैसे शब्दों का इस्तेमाल किए जाने को भाजपाइयों ने कांग्रेस नेताओं की संकीर्ण व घटिया मानसिकता करार दिया। उन्होंने कहा कि, शिक्षा मंत्री के जन्म पर उक्त विधायक की गई अभद्र टिप्पणी से एक बार फिर उनके अल्प ज्ञान व कम पढ़ाई पर सवाल उठते हैं। उन्होंने कहा कि, विगत विधानसभा चुनाव में उक्त विधायक द्वारा एसडीएम संगड़ाह के कार्यकाल में दिए गए हलफनामे में उन्होंने खुद को महज दसवीं पास बताया है तथा हिमाचल प्रदेश के बहुत कम एमएलए इतना कम पढ़े लिखे हैं।

विगत 21, अक्टूबर को संगड़ाह में राज्य कृषि विपणन बोर्ड के अध्यक्ष के निर्धारित कार्यक्रम से एक दिन पूर्व उक्त विधायक द्वारा एसडीएम कोर्ट-अस्पताल संपर्क मार्ग का उद्घाटन किए जाने को उन्होंने कांग्रेसी नेताओं की सरकार के खिलाफ बगावत तथा समानांतर सरकार चलाना करार दिया। इसी क्षेत्र से संबंध रखने वाले एक युवा कांग्रेस नेता पर गत दिनों प्रधानमंत्री व संविधान के खिलाफ अवैध वाल राइटिंग के लिए देशद्रोह का मामला दर्ज होने की बात भी भाजपाइयों ने बयान में याद दिलाई।

भाजपाइयों ने कहा कि, भारत में आजादी के साथ ही रजवाड़ा शाही समाप्त हो चुकी है तथा यह जरूरी नहीं कि विनय कुमार की तरह सभी लोग वीरभद्र सिंह को राजा कह कर संबोधित करें। भाजपाइयों ने विनय कुमार से पूछा कि, भारत में यदि लोकतांत्रिक व्यवस्था है, तो वीरभद्र कौन से देश के राजा है। उन्होंने कहा कि, अभद्र टिप्पणियां उक्त कांग्रेस विधायक की मानसिकता तथा उनके शैक्षणिक स्तर को भी दर्शाती है। भाजपाइयों ने कहा कि, विधायक ने अपने अभद्र बयान से शिक्षा मंत्री सुरेश भारद्वाज के साथ साथ पूर्व मुख्यमंत्री वीरभद्र का भी अपमान किया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here